सोमवार, 27 सितंबर 2010

कल बदल तो नहीं जाओगे??

तुम सदेव रहोगे पास,
दे कर ये विश्वास,सच कहो,
कहीं छल तो नहीं जाओगे,
कल बदल तो नहीं जाओगे?
मेरे ह्रदय की वीणा के तार
...करते है मधुर पुकार

प्रेम की मीठी गुंजार
पायल की झंकार
सब तुम से है प्रियतम
सच कहो आज इक बार
कहीं छल तो नहीं जाओगे,
कल बदल तो नहीं जाओगे?
संदेह का ये बादल
बन नाग डसे हर पल
जाने क्या होगा कल
क्यूँ जीवन में है हलचल
सच कहो आज इक बार
कहीं छल तो नहीं जाओगे,
कल बदल तो नहीं जाओगे?

2 टिप्‍पणियां: