सोमवार, 28 जनवरी 2013

गरीबी रेखा 



आज सुबह सुबह एक रिक्शे वाला 
मोटर साईकिल से टकरा गया
देखते ही देखते भीड़ बढ़ गयी
और माहौल कुछ गरमा गया
बिन कहे दो गुट बने
एक रिक्शेवाले के साथ
दूसरा मोटर साईकिल वाले
के बचाव में आगया
किसकी गलती है बताओ
बहस भारी छिड गयी
खुद को साबित करने की
जिम्मेदारी यूँही बढ़ गयी
एक सज्जन ने सुझाया 
बात को यूँ ना बढाओ
ले दे के कुछ काम पर 
निकलो,समय ना गँवाओ
बात सब को भा गयी
किसको मिले मुआवजा 
अब ये समस्या आ गयी
फिर किसीने समझाया
रिक्शे वाला बेचारा
नुकसान क्या भर पायेगा 
इतना पैसा वो गरीब 
भला कहाँ से लायेगा
इतना सुनते ही रिक्शे वाला
कुछ यूँ भड़क गया
किसको गरीब कहा बताओ?
मैं गरीब इस बात का प्रमाण लाओ
मै रोज़ साठ से सौ रुपये कमाता हूँ,
सरकार कहती है मुझे अब 
गरीबी की श्रेणी में नहीं आता हूँ
रोज़ चाहे ना मिले रोज़ी-रोटी
मगर ओहदा बढ़ गया
आज मै भी गरीबी की 
रेखा से ऊपर चढ़ गया.......
तकते सब मुहँ एक दूजे का 
रह गए,आज भारत में बोलो 
तो गरीब कहाँ रह गए ........ :-P ........ (आशा) 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें